Thursday, 19 April 2018

कॉम्फेड का स्थापना दिवस : देशी नस्ल के पशुओं पर रिसर्च के लिए डुमरांव में खुल रहा संस्थान

पटना.    उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि देसी दुधारू पशु नस्लों का संरक्षण और विकास जरूरी है। यहां की भीषण गर्मी को विदेशी नस्ल के पशु बर्दाश्त नहीं कर सकते, जबकि यहां का मौसम देसी नस्ल के अनुरूप है। देसी नस्ल के पशुओं पर रिसर्च व विकास के लिए डुमरांव में संस्थान खोला जा रहा है। राज्य के लोगों को शादी-विवाह और अन्य उत्सव पर सुधा की मिठाई, दूध और दही का उपयोग करना चाहिए। बुधवार को वे कॉम्फेड के 35वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे।    उन्होंने कहा कि नए संयंत्र लगने से राज्य में दूध उत्पादन क्षमता 62 टन से बढ़ कर 122 टन हो जाएगा। आइसक्रीम उत्पादन क्षमता 3 हजार एमटी से बढ़ कर 43 हजार टन हो जाएगा। कृषि रोडमैप के आधार पर अगले चार-पांच साल में दूध उत्पादन प्रतिदिन 50 लाख लीटर का लक्ष्य रखा गया है।   ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि अब तो यहां बिजली की पर्याप्त उपलब्धता है, इसलिए डेयरी संयंत्र लगाने में कोई परेशानी नहीं है। पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्री पशुपति कुमार पारस ने कहा कि कॉम्फेड के माध्यम से राज्य में दूध उत्पादन लगातार बढ़...

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

from दैनिक भास्कर https://ift.tt/2EYlO7J


EmoticonEmoticon