Tuesday, 17 December 2019

नागरिकता कानून- जामिया में हुई हिंसा मामले में 10 गिरफ्तार, कोई छात्र नही | Hindi Jankari | 2019

Tags


 नागरिकता संसोधन 

दोस्तो ये केस पता नही अब क्या मोड़ लेगा

नागरिकता कानून- जामिया में हुई हिंसा मामले में 10 गिरफ्तार, कोई छात्र नही हुआ गिरफ्तार !


दोस्तो नागरिकता केस जो फिलहाल सुर्खियों मैं है इस मामले में आज 10 लोगो को गिरफ्तार किया गया है। 


. नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के दौरान दिल्ली के जामिया नगर इलाके में हिंसा, आगजनी और तोड़फोड़ के मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी आपराधिक पृष्ठभूमि के हैं और इनमें कोई भी छात्र नहीं है। बता दें कि साउथ दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में हुई हिंसा के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने 2 FIR दर्ज की हैं। 


.रविवार को संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में अराजक तत्वों ने जमकर तांडव मचाया था। उपद्रवियों ने 3 बसों और कुछ अन्य गाड़ियों को फूंक दिया। इतना ही नहीं, आग बुझाने आई दमकल की 4 गाड़ियों में से एक को भी पूरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया था। इसके अलावा कई अन्य गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई थी। इस हिंसा में पुलिस के 10 और दमकल के 2 कर्मचारी भी जख्मी हुए थे।



पुलिस ने  खोज निकले CCTV और विडियो फुटेज।


.सोमवार को दिल्ली पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया था कि प्रदर्शन में स्थानीय लोगों के शामिल होने से हिंसा फैली। उपद्रवियों तक पहुंचने के लिए पुलिस ने सीसीटीवी और हिंसा के वायरल फुटेज खंगाले। माना जा रहा है कि 10 स्थानीय लोगों की गिरफ्तारी इसी के आधार पर की गई है।


फर्जी आई-कार्ड लेकर घुसे थे शरारती तत्व!


.पुलिस को शक है कि जामिया के आई कार्ड बनवाकर कुछ लोग प्रदर्शनकारियों में शामिल हुए थे। असली स्टूडेंट्स से कहीं अधिक हिंसा भड़काने में फर्जी छात्रों का हाथ था। हिरासत में लिए गए ऐसे 51 स्टूडेंट्स की पुलिस ने जांच करानी शुरू कर दी है। इनमें से 36 को कालकाजी से और 15 को न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी इलाके से हिरासत में लिया गया था। ये सभी खुद को जामिया, डीयू के हिंदू कॉलेज और इग्नू के स्टूडेंट होने का दावा कर रहे थे। पुलिस को इनमें से कुछ पर शक है कि उन्होंने जामिया के फर्जी आई कार्ड बनवा रखे थे|


.हिंसा के बाद जामिया कैंपस में घुसे थे शरारती तत्व: पुलिस पुलिस और जामिया प्रशासन दोनों का शुरू से कहना है कि हिंसा में छात्रों का कोई हाथ नहीं था। हिंसा में बाहरी लोग शामिल थे जो आगजनी, तोड़फोड़ के बाद जामिया कैंपस में घुस गए थे। उनको पकड़ने के लिए पुलिस भी शाम को कैंपस में घुस गई। पुलिस पर बिना इजाजत कैंपस में घुसने, स्टूडेंट्स और स्टाफ को पीटने, लाइब्रेरी में तोड़फोड़ करने और आंसू गैस के गोले छोड़ने के भी आरोप लगे थे|


दोस्तो अगर आप लोगो को इस केस के बारे मे अगर नही पता कि ये क्या है किस चीज़ का दंगा है तो बने रहे हमारे साथ आप लोगो को पूरी कहानी बताई जाएगी Hindi Jankari पर  तो बने रहे हमारे साथ।


EmoticonEmoticon